भारतीय राष्ट्रीय आन्दोळन में समाजवादी .साम्यवादी दल का विकास और भूमिका

रमेश कुमार राय

Abstract


शोषण वंचना से मुक्त सामाजिकए आर्थिकए न्याय और समता के साथ समरस सामाजिक भावना से ओत प्रोत मानवता के प्रति संवेदना लिए हुए भारत में भी समाजवाद का विकास उपनिवेशी काल में प्रारम्भ हुआ।  उपनिवेशी शोषण के प्रति किसानोंए जनजातियोंए नवोदित मजदूर वर्गों ने अपने हितों के संरक्षण के लिए समाजवाद को बेहतर विकल्प के रुप में चुना। पाश्चात्य समाजवादी विचारधारा को भारत की माटी के अनुरुप परिवर्धितए संशोधित किया गया। जिसकी वजह से वैचाारिक मतभेद स्वाभाविक ही था। परिणामस्वरुप कई प्रकार के समाजवादी दलों का भारत मे विकास हुआ जिससे आने वाले समय में समाजवादी विचारों की क्षति हुई। इसके बावजूद आजादी के संघर्ष में और आजादी के बाद संगठित न्यायपूर्ण समाज की स्थापना में समाजवादी दलों का महत्वपूर्ण योगदान है।


Full Text:

PDF

References


गौतम पी एलण्;1998द्धण्आधुनिक भारत ;1757.1947द्ध जयपुररूण्राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमीण्पेज 270

विपिनचन्द्र ण्;2002द्धण्भारत का स्वतऩ़्त्रता संर्घषण् दिल्लीरू हिन्दी माध्यम कार्यान्वयन निदेशालयए दिल्ली विश्ववि़़द्यालयण्पेज 132

राय सत्या एमण्;1987द्धण्भारत में राष्ट्रवादण् दिल्लीरू हिन्दी माध्यम कार्यान्वयन निदेशालयए दिल्ली विश्ववि़़द्यालयण्पेज 310

वही पेज 321

गौतम पी एलण्;1998द्धण्आधुनिक भारतण् ;1757.1947द्धण् जयपुररू राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमीण्पेज 704

जय प्रकाश नारायण़ण् ;1946द्धण् टूअर्डस स्ट्रगलण् बम्बईरू पदमा पब्लिकेशनण् पेज 137

वही पेज 139

वही पेज 139

शुक्ल आर एल;;1988द्ध आधुनिक भारत का इतिहासए दिल्लीरू हिन्दी माध्यम कार्यान्वयन निदेशालयए दिल्ली विश्ववि़़द्यालयण् पेज 732


Refbacks

  • There are currently no refbacks.