कौशल भारत कार्यक्रम एवं चुनौतियां

सुरेश कुमार

Abstract


कौशल भारत कार्यक्रम की शुरुआत विश्व कौशल दिवस के मौके पर भारतीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने 15 जुलाई 2015 को मेक इन इंडिया पहल को कामयाब बनाने एवं दिन प्रतिदिन बढ़ती बेरोजगारी की पंक्ति में कमी करके रोजगार प्रदान करने वाली पंक्ति तैयार करने की है । भारत में प्रतिवर्ष 1करोड़ 20 लाख  नए युवक रोजगार की तलाश में निकलते हैं। भारत में बेरोजगारी की दर 10% के आसपास है जबकि अन्य विकसित देशों में जो केवल 3-4% है। भारत की  वर्तमान 128 करोड़ जनसंख्या में 96 करोड साक्षर हैं। यह साक्षरता पुरुष 82 % तथा महिला 65% है और ग्रामीण व शहरी प्रतिशतता में भी ज्यादा अंतर है । इस साक्षर जनसंख्या में तकनीकी एवं व्यवसायिक कुशलता प्रतिशत मात्र 2% है जब की किसी भी प्रकार की कुशलता प्राप्त जनशक्ति 4.69% ही है जबकि यह अन्य देशों में 30% से 90% तक है । हम कौशल विकास में चीन से भी काफी पीछे हैं उनको विकास में जल्दी ही पीछे छोड़ने की बात की जाती है । चीन अपनी इसी कौशल विकास दक्षता की उच्च दर के आधार पर ही विश्व शक्ति बना है । भारत में 10 से 24 वर्ष के बीच की 36 करोड़ जनसंख्या है जो कि अमेरिका की कुल आबादी से भी अधिक है । 2020 तक भारत की औसत उम्र 29 वर्ष होगी जबकि विश्व के विकसित देशों की औसत 40 से 50 वर्ष होगी । चीन की औसत उम्र भी भारत से 10 वर्ष अधिक होगी । भारत अपने देश की जनशक्ति का कौशल विकास करके भारत एवं अन्य देशों में कुशल कामगारों की आवश्यकता को पूरा करने की योग्यता है । संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या कोष के अनुसार 2022 तक भारत एवं विश्व  के प्रमुख औद्योगिक देशों में लगभग 50 करोड़ दक्षता प्राप्त रोजगार के अवसर पैदा होंगे जिसकी पूर्ति भारत अपने कौशल विकास कार्यक्रम एवं कौशल भारत कार्यक्रम द्वारा करेगा ।


Full Text:

PDF

References


कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय का प्रतिवेदन 2016-17

कौशल विकास Wikipedia

UNDP Report 2015

कुरुक्षेत्र अक्टूबर 2015 (ललन महतो)

योजना दिसम्बर 2017 (अजय शंकर)

https://en.wikipedia.org

https://www.mapsofindia.com/.../societ


Refbacks

  • There are currently no refbacks.