भारतीय राजनैतिक एवं सामाजिक परिवेश एवं स्त्री अधिकार

डॉ. अजय सिंह कुशवाह

Abstract


भारतीय समाज में नारी का स्थान पूज्यनीय रहा है। समाज तथा सभ्यता के विकास में महिलाओं का योगदान सर्वोपरि रहा है। कभी वह बेटी बनकर परिवार की शोभा बढ़ती है तो बहन बनकर भाईयों को दुलारकरती हे, वहीं माँ बनकर संतान का लालन-पालन करती है। बड़ी होने पर भी उसका सम्मान कम नहीं होता और वह दादी-नानी बनकर गौरवमय जीवन जीती हैं। भारत ही नहीं संपूर्ण विश्व में स्त्री का स्थान महत्वपूर्ण रहा है। जहां भी स्त्री के समान को चोट पहुँची है वहाँ विकास नहीं विनाश हुआ है।

Full Text:

PDF

References


एम.ए.अंसारी, राष्ट्रीय महिला आयोग और भारतीय नारी, ज्योति प्रकाशन, जयपुर, 2000.

ऽ श्राजबाला सिंह, मधुबाला सिंह, भारत में महिलाएँ, आविष्कार पब्लिशर्स, डिस्ट्रीब्यूटर्स, जयपुर, 2006.

ऽ प्रो. मानचन्द्र खडैला, महिला और बदलता सामाजिक परिवेश, आविष्कार पब्लिशर्स, डिस्ट्रीब्यूटर्स, जयपुर, 2008.

ऽ ललित लत्ता, वुमैन डेवलपमेंट इन इंडिया, ए. स्टैटिकल प्रोफाईल, मानक पब्लिकेशन्स प्राइवेट लिमिटेड, 2005.

ऽ आशारानी व्होरा, औरत आज, कल और कल, कल्याणी शिक्षा परिषद, नई दिल्ली, 2005.

ऽ श्रीमति वन्दना सक्सेना, महिलाओं का संसार और अधिकार, मनीषा प्रकाशन, दिल्ली, 2004.

ऽ आशारानीव्होरा, भारतीय नारी दशा दिशा, नेशनल पब्लिशिंग हाऊस,नई दिल्ली, 1983.

ऽ क्षमा शर्मा, स्त्री का समय, मेघा बुक्स, दिल्ली, 1998.

ऽ निश्तर खान काही, डाॅ. गिरिराज शरण अग्रवाल, नारी कल और आज, हिन्दी साहित्य निकेतन, उ.प्र., 2000.

ऽ राजकिशोर (सम्पादक), स्त्री परम्परा और आधुनिकता, वाणी प्रकाशन, नई दिल्ली, 1999.

ऽ प्रतिभा जैन एवं संगीता शर्मा, भारतीय स्त्री (सांस्कृतिक संदर्भ), रावत पब्लिकेशन, जयपुर एवं नई दिल्ली, 1998.

ऽ डाॅ. प्रवीण शुक्ल, महिला सशक्तिकरणः बाधाएं एवं संकल्प, आर.के. पब्लिशर्स एण्ड डिस्ट्रीब्यूटर्स, दिल्ली, 2009.


Refbacks

  • There are currently no refbacks.